संविधान का पुनर्गठन

Hello Friends, ज्ञान उदय में आपका एक बार फिर स्वागत है, आज हम बात करते हैं संविधान के पुनर्गठन के बारे में ।

.

भारत और पाकिस्तान के विभाजन के बाद संविधान सभा का पुनर्गठन किया गया।

.

पुनर्गठन की पहली बैठक 9 दिसम्बर 1946 को हुई। जिसमें सच्चिदानन्द सिन्हा को अस्थायी अध्यक्ष बनाया गया।

.

संविधान सभा की दूसरी बैठक 2 दिन बाद हुई यानी 11 दिसम्बर 1946 को । जिसमें डां. राजेन्द्र प्रसाद को स्थायी अध्यक्ष और एच. सी. मुखर्जी को उपाध्यक्ष बनाया गया । इस बैठक के सवैधानिक सलाहकार बी. एन. राव थे।

.

तीसरी बैठक 13 दिसम्बर 1946 में हुई । इस बैठक में नेहरू जी ने “उद्देश्य प्रस्ताव” पेश किया । इस प्रस्ताव को 22 जनवरी 1947 में संविधान सभा ने अपनाया । भारतीय संविधान की प्रस्तावना इन्ही “उद्देश्य प्रस्ताव” के आधार पर हुई ।

.

संविधान निर्माण के लिये सभा द्वारा कुछ समितियों का गठन किया गया, जो इस प्रकार हैं ।

.

क्रमसंख्या समिति अध्यक्ष
1 संघ शक्त् समिति जवाहर लाल नेहरू
2 संविधान समिति जवाहर लाल नेहरू
3 राज्यों के लिए समिति जवाहर लाल नेहरू
4 राज्यों तथा रियासतों से परामर्श समिति सरदार पटेल
5 मौलिक अधिकार एवं अल्पसंख्यक समिति सरदार पटेल
6 प्रान्तीय संविधान समिति सरदार पटेल
7 मौलिक अधिकारों पर उपसमिती जे. बी. कृपलानी
8 झण्डा समिति अध्यक्ष जे. बी. कृपलानी
9 प्रक्रिया नियम समिति(संचालन) राजेद्र प्रसाद
10 सर्वोच्च न्यायलय से संबधित समिति एस. एच. वर्धाचारियर
11 प्रारूप संविधान का परीक्षण करने वाली समिति अल्लादी कृष्णा स्वामी अरयर
12 प्रारूप समिति/ड्राफटिंग/मसौदा समिति डा. भीमराव अम्बेडकर
13 संविधान समीक्षा आयोग एम एन बैक्टाचेलेया

.

प्रारूप समिति 29 अगस्त 1947 को गठित की गई थी। इस समिति में 7 सदस्य थे जो इस प्रकार हैं ।

.

1 डाॅ. बी. आर. अम्बेडकर

.

2 अल्लादी कृष्णा स्वामी अयंगर

.

3 एन. गोपाल स्वामी अयंगर

.

4 कन्हैयालाल माणिक्यलाल मुशी

.

5 एन. माधवराज -यह बी. एल. मित्तल के स्थान पर आये थे।

.

5 टी. टी. कृष्णामाचारी – यह डी. पी. खेतान के स्थान पर आये थे।

.

6 मोहम्मद सादुल्ला

.

संविधान सभा की पहली बैठक में 207 सदस्यों ने भाग लिया । इस सभा में कुल 15 महिलाओं ने भाग लिया तथा 8 महिलाओं ने संविधान पर हस्ताक्षर किए ।

.

 विभाजन के बाद अक्टुबर 1947 में संविधान सभा में सदस्य संख्या घटकर 299 रह गई।

.

भारत विभाजन से पूर्व 4 अधिवेशन सम्पन्न किए गए ।

.

7 वे अधिवेशन में महात्मा गांधी को श्रद्वांजली अर्पित कि गई।

.

संविधान सभा की कुल 105 बैठके तथा 12 अधिवेशन सम्पन्न किए गए ।

.

भारतीय संविधान सहमति और समायोजन के आधार पर बनाया गया है।

.

भारतीय संविधान सभा दो प्रकार से कार्य करती थी।

.

(1) डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की अध्यक्षता में संविधान निर्माण का कार्य किया जाता था तथा

.

(2) जब संविधान सभा विधायिका के रूप में कार्य करती तो अध्यक्षता गणेश वासुदेव मावंलकर द्वारा की जाती थी ।

.

संविधान निर्माण के लिए सभा की आखरी बैठक 24 नवंबर को हुई और 284 लोगों ने संविधान पर हस्ताक्षर किए । सर्वप्रथम नेहरू जी ने हस्ताक्षर किए ।

.

26 नवम्बर 1949 को संविधान के 15 अनुच्छेद जिसमें नागरिकता, अन्तरिम संसद तथा सक्रमणकालीन उपबंध लागु किए गए।

.

संविधान लागू करने से पूर्व 24 जनवरी 1950 को अन्तिम बैठक बुलाई गई। जिसमें डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद को भारत का राष्ट्रपति चुना गया तथा राष्ट्रीय गीत और राष्ट्रगान को अपनाया गया।

.

26 जनवरी 1950 को सम्पूर्ण संविधान लागू किया गया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Close Menu
error: Sorry you can\\\\\\\\\\\\\\\'t copy
%d bloggers like this: