संयुक्त राष्ट्र संघ : स्थापना, अंग, उद्देश्य

United Nations Organization : Establishment, Organs, Objectives

संयुक्त राष्ट्र संघ : स्थापना, अंग, उद्देश्य

Hello दोस्तों ज्ञानोदय में आपका स्वागत है । आज हम बात करते हैं संयुक्त राष्ट्र संघ यानी United Nations Organization (UNO) के बारे में संयुक्त राष्ट्र संघ को short में UN भी कहते हैं । आज हम बात करेंगें UNO की स्थापना के बारे में, इसके उद्देश्य और इनके सबसे महत्वपूर्ण अंगों के बारे में ।

संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना (Establishment of UNO)

सबसे पहले जानते हैं, UNO की स्थापना के बारे में । संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना ऐसे वक्त में हुई थी, जब दूसरे विश्व युद्ध अपने खतरनाक रूप से पूरी दुनिया को आतंकित कर रहा था । दूसरे विश्व युद्ध में धुरी राष्ट्रों के खिलाफ संघर्ष करते हुए मित्र राष्ट्र, संघ को पुनर्जीवित करने की जगह नया अंतरराष्ट्रीय संगठन बनाने का फैसला लिया । अगर इस युद्ध में धुरी राष्ट्रों की जीत होती तो दुनिया का पर धुरी राष्ट्रों का प्रभाव पड़ता । लेकिन इस युद्ध में मित्र राष्ट्रों की जीत हुई थी ।

इस topic पर video देखने के लिए यहाँ Click करें ।

इसलिए अमेरिका के सैनफ्रांसिस्को (Sanfransisco) में 1942 में 26 मित्र राष्ट्रों का सम्मेलन हुआ । इस सम्मेलन में यह फैसला लिया गया कि मित्र राष्ट्र एकजुट होकर धुरी राष्ट्रों का मुकाबला करेंगे । इसलिए नए संगठन को संयुक्त राष्ट्र नाम दिया गया । यह शब्द अमेरिका के राष्ट्रपति रूजवेल्ट ने चुना था । आगे चलकर 50 देशों ने इसके अधिकार पत्र पर हस्ताक्षर कर दिए । इस तरीके से 24 अक्टूबर 1945 को संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना हुई ।

संयुक्त राष्ट्र संघ का उद्देश्य (Objective of UNO)

संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए की गई है । इसलिए UN अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा और शांति को बनाए रखने के लिए हर तरीके की कोशिश करता है और आने वाले वक्त में युद्धों की रोकथाम पर बल देता है । 2005 में UNO के 60 साल पूरे हुए । जब से UN बना है, तब से उसके के सामने बहुत बड़ी चुनौतियां आती रही हैं । इन चुनौतियों का सामना UN ने बहुत अच्छे तरीके से किया है । आज भी UN तरक्की कर रहा है और आगे बढ़ रहा है ।

3rd Year B.A. Important Questions के लिए यहाँ Click करें ।

संयुक्त राष्ट्र संघ के प्रमुख अंग (Important Organs of UNO)

संयुक्त राष्ट्र संघ का जो संविधान है, उसे हम चार्टर (Charter) कहते हैं । चार्टर के अंदर ही यानी UN के संविधान के अंदर उनके प्रमुख अंगों के बारे में बताया गया है ।

संयुक्त राष्ट्र संघ के छह अंग हैं ।

पहला है महासभा (General Assembly)

दूसरा सुरक्षा परिषद (Security Council)

तीसरा है सामाजिक आर्थिक परिषद (Economic and Social Council)

चौथा न्यायसिता परिषद (Trusteeship Council)

पांचवा अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (International Court of Justice) और

छटा सचिवालय (Secretariat)

असमानता पर रूसो के विचार के लिए यहाँ Click करें |

आइये सबसे पहले हम इन अंगों के बारे में Detail में जान लेते हैं ।

1 महासभा (General Assembly)

सबसे पहले बात करते हैं, महासभा की । महासभा UN का सबसे बड़ा अंग है । जो भी देश UN का सदस्य होता है । वह महासभा का भी सदस्य होता है । वर्तमान में 193 इसके सदस्य हैं । अब महासभा के काम भी जान लेते हैं । विचार विमर्श करना । किसी नए देश को यूएन का सदस्य बनने की आज्ञा देना । महासभा किसी भी सदस्य की सदस्यता को समाप्त कर सकती है । इसके अलावा सुरक्षा परिषद के महासचिव को नियुक्त कर सकती है ।

नागरिकता पर अरस्तु के विचार के लिए यहाँ Click करें ।

2 सुरक्षा परिषद (Security Council)

संयुक्त राष्ट्र संघ में या यूएन का दूसरा अंग है । सुरक्षा परिषद सुरक्षा । इस अंग को समझने के लिए परिषद को समझने के लिए हमें इसे तीन हिस्सों में इसके कार्यों को बांटना पड़ेगा ।

i कार्य और शक्तियां

ii संरचना और

iii निषेध अधिकार

राजनीति सिद्धान्त (Political Theory in Hindi) के बारे पढ़ने के लिए यहाँ Click करें ।

सबसे पहले जानते हैं, सुरक्षा परिषद के कार्य और शक्तियों के बारे में । सुरक्षा परिषद का पहला काम है । अंतरराष्ट्रीय शांति बनाए रखना । यूएन के सभी सदस्यों की सुरक्षा करना । विवाद वाले देशों के बीच मतभेद मिटाना । विवाद वाले देशों के बीच मध्यस्थता कराना । विवाद का समाधान करना और शांति दूत भेजना । और आक्रमणकारी देश के खिलाफ आर्थिक और सैनिक प्रतिबंध लगाना ।

अब जानते हैं, संरचना यानी Structure की, सुरक्षा परिषद के अंदर कुल 15 सदस्य होते हैं । 10 अस्थाई सदस्य और पांच स्थाई सदस्य । 10 अस्थाई सदस्यों का चुनाव 2 साल के लिए महासभा द्वारा किया जाता है । जबकि स्थाई सदस्य हैं, अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन, रूस और चीन । यह स्थाई सदस्य कभी नहीं बदले जा सकते । यह एक बार बन गए, अब कभी इनको बदला या इनको बढ़ाया नहीं जा सकता है ।

Click here to know more नकारात्मक स्वतंत्रता (Negative Liberty)

तीसरा है निषेध अधिकार । सुरक्षा परिषद में कोई भी फैसला लेने के लिए 15 में से 9 सदस्यों का सहमत होना बहुत जरूरी है । और उन पर भी पांच स्थाई सदस्यों का होना सहमत जरूरी है । अगर पांच स्थाई सदस्य में से एक सदस्य भी सहमत नहीं होता तो उस निर्णय को सहमति नहीं मिल सकती । इसे कहते हैं निषेध अधिकार । अगर 15 सदस्य में से 14 भी सहमत हो गए और एक स्थाई सदस्य सहमत नहीं हैं, तो वह निर्णय पास नहीं हो सकता । पांचों के पांचों स्थाई सदस्यों का सहमत होना बहुत जरूरी है । इसे ही वीटो पावर या निषेध अधिकार कहते हैं ।

विशिष्ट वर्गीय सिद्धांत (Elite Theory in Hindi) के बारे पढ़ने के लिए यहाँ Click करें ।

सारे बड़े बड़े फैसले, महत्वपूर्ण फैसले सुरक्षा परिषद में ही लिए जाते हैं । इसलिए इसे सुरक्षा परिषद को UN का सबसे बड़ा और शक्तिशाली पद माना जाता है ।तीसरा है

3 सामाजिक आर्थिक परिषद (Economic and Social Council)

सामाजिक आर्थिक परिषद का निर्माण UN के पिछड़े देशों के सामाजिक आर्थिक विकास के लिए किया गया था । इस परिषद के अंदर 54 सदस्य होते हैं । जिन्हें 3 साल के लिए महासभा द्वारा चुना जाता है । सामाजिक आर्थिक परिषद, सामाजिक आर्थिक विकास से जुड़े कई काम करते हैं । इसलिए इस परिषद के अधीन काफी सारी एजेंसियां भी काम करती हैं । जैसे यूनिसेफ (UNICEF), आई एल ओ (ILO), डब्ल्यू एच ओ (WHO) । इसके अलावा और भी एनजीओ (NGO) और एजेंसी है जो सामाजिक आर्थिक विकास से जुड़े हुए कार्य करती हैं । चौथा है

कौटिल्य के सप्तांग सिद्धान्त के लिए यहाँ Click करें ।

4 न्यायसिता परिषद (Trusteeship Council)

न्यायसिता परिषद भी UN का एक महत्वपूर्ण अंग है । इस अंग को संरक्षण परिषद भी कहते हैं । यह परिषद अपने under लिए गए देशों को, अपने अधीन देशों को इस योग्य बनाने की कोशिश करते हैं कि वह अपना शासन खुद चला सके । लेकिन लंबे समय से इस परिषद के अधीन कोई देश नहीं है । इसलिए 1994 में इस परिषद को समाप्त कर दिया गया । और पांचवा है अंग है ।

5 अंतराष्ट्रीय न्यायालय (International Court of Justice)

अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय UN का न्यायिक अंग है । इस न्यायालय के अंदर उन 15 न्यायाधीशों, जिन्हें महासभा सुरक्षा परिषद के द्वारा 9 साल के लिए चुना जाता है । इनमें से पांच न्यायाधीशों का कार्यकाल हर 3 साल बाद समाप्त हो जाता है और उनकी जगह पर दूसरे न्यायाधीशों को चुना जाता है । अंतरराष्ट्रीय न्यायालय कानूनी विवादों की पुष्टि करता है । सुरक्षा परिषद और महासभा को कानूनी सलाह देता है और अंतरराष्ट्रीय कानून और संधियों की व्याख्या भी करता है । और छटा अंग है ।

6 सचिवालय (Secretariat)

सचिवालय UNO का प्रशासनिक अंग है और सचिवालय के अंदर बड़ी संख्या में कर्मचारी कार्य करते हैं । सचिवालय के मुखिया को महासचिव कहा जाता है और आजकल पुर्तगाल के एंटोनियो गुटेरेस ( António Guterres ) महासचिव हैं ।

तो दोस्तों यह संयुक्त राष्ट्र संघ और उनके प्रमुख अंग । अगर आपको इनके बारे में और जानना है, तो आप हमें Comment में बता सकते हैं और अगर आपको यह Post अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ Share करें और अगर आपको इस Topic से Related Notes चाहिए तो आप हमारे whatsapp 9999338354 पर Contact कर सकते हैं ।

तब तक के लिए धन्यवाद !!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Close Menu
error: Sorry you can\\\\\\\\\\\\\\\'t copy
%d bloggers like this: