असमानता पर रूसो के विचार

Political Thought of Rousseau

Hello दोस्तों Gyaan Uday में आपका स्वागत है । आज हम बात करते हैं, ‘असमानता पर रूसो के विचारों की’ (Political thought of Russoau on Inequality) ।

रूसो आधुनिक युग का एक महान विचारक था । जिसने मानव के स्वभाव, प्राकृतिक अवस्था, राज्य की उत्पत्ति और असमानता पर अपने विचार दिए । रूसो का मानना था कि प्राकृतिक अवस्था एक आदर्श अवस्था है और इस प्राकृतिक अवस्था में एक मनुष्य प्राणी के समान था । जिसमें नैतिक, अनैतिक का कोई ज्ञान नहीं था । वह निष्पक्षता और निर्दोष था । प्राकृतिक अवस्था में कुछ नियम थे और उन नियमों को लागू करने वाली कोई संस्था नहीं थी । इसलिए लोगों ने आपस में समझौता करके राज्य बनाया ।

इस Topic की Video देखने के लिए यहाँ Click करें ।

रूसो हमें सबसे पहले हमें बताता है, मानव के स्वभाव के बारे में, राज्य की उत्पत्ति के बारे में और फिर असमानता के बारे में । सबसे पहले हम जानते हैं ।

1 मानव का स्वभाव

प्राकृतिक अवस्था में मानव का स्वभाव कैसा था ? रूसो का मानना था कि प्राकृतिक अवस्था में मानव एक प्राणी के, एक जानवर के समान था । जिसे नैतिक और अनैतिक का कोई ज्ञान नहीं था । और इस प्राकृतिक अवस्था में सभी लोग खुश थे । और हर व्यक्ति अधिक से अधिक प्राप्त करना चाहता था । परन्तु आधुनिक सभ्यता से स्वयं मानव के स्वभाव के अंदर बहुत सारे दोष पैदा हुए । प्राकृतिक अवस्था में नियम थे । उन नियमों को लागू करने वाली कोई संस्था नहीं थी जिसके कारण लोग प्राकृतिक अवस्था में परेशान हो गए थे ।

कौटिल्य के सप्तांग सिद्धान्त के लिए यहाँ Click करें ।

 सप्तांग सिद्धान्त की Video के लिए यहाँ Click करें ।

2 राज्य की उत्पत्ति

तो इस परेशानी से निजात पाने के लिए लोगों ने आपस में समझौता करके राज्य बनाया । राज्य को सुचारू रूप से चलने के लिए कुछ नियम बनाए । राज्य बनने के बाद आधुनिक सभ्यता का उदय हुआ । और

3 असमानता का उदय

आधुनिक सभ्यता से असमानता पैदा हुई । रूसो का मानना था कि जब राज्य बना तो, राज्य बनने से व्यक्ति का बौद्धिक विकास हुआ । मनुष्य नैतिक और अनैतिक में अंतर करने लगा । और वह जानने लगा कि क्या सही है और क्या गलत है ।

नागरिकता पर अरस्तु के विचार के लिए यहाँ Click करें ।

 Aristotle’s Theory of Citizenship की Video के लिए यहाँ Click करें ।

रूसो के अनुसार प्राकृतिक अवस्था से एक तरफ बहुत सारी अच्छाइयों को बढ़ावा मिला । दूसरी तरफ आधुनिक सभ्यता से एक तरफ तो अच्छाई को बढ़ा मिला लेकिन आधुनिक सभ्यता की वजह से बहुत सारी बुराइयां भी पैदा हुई । जैसे ज्यादा हासिल करने के लिए इंसान धोखा, बेईमानी इन सारी चीजों का सहारा लेने लगा । और ज्यादा प्राप्त करने के लिए, लोगों में अधिक पाने के लिए प्रतियोगिता भी पैदा हुई । जिससे समाज में अव्यवस्था पैदा हुई ।

रूसो का यह मानना है कि असमानता को खत्म किया जाए । इस असमानता को खत्म करने के लिए राज्य को बड़ी भूमिका निभानी चाहिए । हालांकि असमानता को पूरी तरह से कभी खत्म नहीं किया जा सकता । लेकिन राज्य को यह देखना चाहिए कि कोई भी व्यक्ति अनैतिक साधनों का इस्तेमाल करके आगे बढ़ने का प्रयास ना करें । और हर कोई नैतिक साधनों का इस्तेमाल करके ही आगे बढ़े । रूसो हमें बताता है कि इस असमानता को खत्म करने के लिए सामान्य इच्छा का पालन करना चाहिए ।

राजनीति सिद्धान्त (Political Theory in Hindi) के बारे पढ़ने के लिए यहाँ Click करें ।

Political Theory (राजनीति सिद्धान्त) की Video के लिए यहाँ Click करें ।

रूसो ने हमें व्यक्तियों की इच्छाओं के बारे में बताया है । व्यक्ति की इच्छाएं 2 तरह की होती हैं ।

1 यथार्थ इच्छाएं और

2 आदर्श इच्छाएं

1 यथार्थ इच्छाएं वह कहलाती है, जो व्यक्ति की निजी इच्छाएं होती हैं । यानी जो खुद के बारे में व्यक्ति की इच्छाएं होती है । जैसे हर व्यक्ति गाड़ी, बंगला आदि हासिल करना चाहता है । इनको व्यक्ति की इच्छाएं कहा जाता है ।

2 दूसरी है, आदर्श इच्छाएं । जो इच्छाएं व्यक्ति की राष्ट्र के बारे में हो और समाज के बारे में हो । इन्हें आदर्श इच्छाएं कहते हैं । और जब बहुत सारे लोगों की आदर्श इच्छाओं को जोड़ दिया जाता है तो उन इच्छाओं को हम सामान्य इच्छा कहते हैं ।

3rd Year B.A. Important Questions के लिए यहाँ Click करें ।

राज्य को सामान्य इच्छाओं के हिसाब से देश का विकास करना चाहिए क्योंकि सामान्य इच्छाऐं राष्ट्र और समाज पर आधारित होती है । राष्ट्र और समाज के कल्याण को बढ़ावा देती हैं । अगर सामान्य इच्छाओं का पालन किया जाए तो असमानता को खत्म किया जा सकता है ।

रूसो का यही मानना है कि समाज के अंदर जितनी भी बुराइयां पैदा हुई हैं । वह सब आधुनिक सभ्यता की वजह से पैदा हुई हैं । इसलिए आधुनिक सभ्यता में बुराइयों को भी खत्म करना बहुत जरूरी है ।

तो दोस्तो यह था असमानता पर रूसो के विचार (Political thought of Russoau on Inequality) अगर आपको यह Post अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें ।

इस Topic से Related notes के लिए हमारे whatsapp 9999338354 पर Contact करें ।

तब तक के लिए धन्यवाद !!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Close Menu
error: Sorry you can\\\\\\\\\\\\\\\'t copy
%d bloggers like this: